Thursday, 29 October 2020

छत्तीसगढ़ में बौद्ध एवं जैन धर्म

 

 

छत्तीसगढ़ में बौद्ध एवं जैन धर्म 

 

*  अवदान  शतक नामक बौद्ध  ग्रन्थ के अनुसार , महात्मा बुद्ध सिरपुर ( छत्तीसगढ़ ) आए  थे  तथा लगभग  तीन माह तक  यहां  की राजधानी  ( श्रावस्ती  ) में उन्होंने   प्रवास  किया  था।  ऐसी  जानकारी  चीनी यात्री  ह्वेनसांग  के यात्रा  वृत्तांत  से भी मिलती  है। 

 

* छठी  शताब्दी  में बौद्ध  भिक्षु  प्रभु आनंद  ने सिरपुर  में स्वास्तिक विहार  एवं आनंद कुटी विहार  निर्माण  कराया था।  

 

* जैन धर्म ग्रन्थ  भगवती  सूत्र  के अनुसार  कोसल  महाजनपद  उत्तर कोसल  तथा  दक्षिण कोसल  में बंटा  हुआ था। 

 

* ऋषभ देव के विषय   जानकारी  गुंजी  ( जांजगीर -चांपा )  से , पर्श्वनाथ  की  नगपुरा  ( दुर्ग ) से  तथा  महावीर   आरंग  ( रायपुर ) से मिलती है। 

 

 

 

 

 

 

 

No comments:

Post a Comment

छत्तीसगढ़ में महाजनपद काल

  छत्तीसगढ़ में महाजनपद काल       * भारतीय इतिहास में छठी शताब्दी ईसा पूर्व का विशेष महत्व है ,  क्योकि  इसी समय से ही भारत का व्यवस्थित इतिह...