Thursday, 20 August 2020

छत्तीसगढ़ की भौगोलिक स्थिति , Geographical situation of chhattisgarh, chhattisgarh ki bhaugolik sthiti ,cgpsc

****छत्तीसगढ़  की भौगोलिक  स्थिति ****

* छत्तीसगढ़ राज्य ऊँची -नीची  पर्वत  श्रेणियों  व घने जंगलो  वाला  राज्य  है  जिसका क्षेत्रफल  1. 35  लाख  वर्ग  किमी.  है , जो  भारत के क्षेत्रफल का  4. 11 %  है।   क्षेत्रफल के अनुसार  , भारत के राज्यों में इसका स्थान 10 वां  स्थान है।  

 

 

* छत्तीसगढ़  17 डिग्री 46 '    उत्तरी   अक्षांश  से   24  डिग्री 05 '   उत्तरी  अक्षांश  तथा 80 डिग्री  25 '    पूर्वी देशांतर रेखाओं  के मध्य स्थित है।  

 

* राज्य की आकृति  समुद्री घोड़े ( सी  हार्स ) या हिप्पोकैम्पस  की  आकृति  के समान है।  

 

* राज्य  की उत्तर  से दक्षिण  तक लम्बाई  700 -800 किमी.  है  तथा पूर्व  से पश्चिम तक लम्बाई 435 किमी. है।  राज्य का उत्तरी जिला बलरामपुर , दक्षिणी जिला सुकमा , पूर्वी जिला जशपुर  तथा पश्चिमी जिला  बीजापुर है।  

* भौतिक  विभाजन  के आधार पर  छत्तीसगढ़  राज्य  प्रायद्वीपीय पठार  का हिस्सा  है। 

* यह  राज्य मध्य  प्रदेश  के दक्षिण -पूर्व  में स्थित है। 

* छत्तीसगढ़  मैदान की ढाल पूर्व दिशा की ओर है। 

* कर्क रेखा  राज्य के उत्तरी भाग के 3  जिलों  कोरिया , सूरजपुर  और बलरामपुर  से गुजरती है।

 

* भारतीय मानक  समय  रेखा  राज्य के 7 जिलों  बलरामपुर ,सरगुजा  ,सूरजपुर, कोरबा , जांजगीर -चांपा  , बलौदाबाजार  , तथा महासमुंद  से होकर गुजरती है। 

 

* भारतीय  मानक समय रेखा तथा कर्क रेखा राज्य के सूरजपुर  जिले में एक - दूसरे को काटती है।  

 

* छत्तीसगढ़  एक  भू -आवेष्टिक  प्रदेश है।  अर्थात  इस राज्य की  सीमा  किसी भी  समुद्रतट से  नहीं लगती  तथा  इसकी  सीमा  किसी  अन्य  देश की सीमा को भी स्पर्श  नहीं करती। 

 

* राज्य के उत्तर  पूर्वी  भाग में कोरिया  , सरगुजा  तथा  जशपुर  जिलों  में  पर्वतमालाओं एवं पठारों का विस्तार है। 

 

* राज्य  के पूर्वी  भाग  में सक्ति पर्वत  महानदी  कछार  तक तथा पश्चिमी  छोर  छोटानागपुर  ( रायगढ़ जिला )  तक विस्तृत है। 

 

 

 

 

 छत्तीसगढ़  का सीमा विस्तार ****

 

 

* छत्तीसगढ़  7 राज्यों  के साथ  सीमा  बनता है। इसके  उत्तर में उत्तर प्रदेश , उत्तर -पूर्व में  झारखण्ड , उत्तर -पश्चिम  में मध्यप्रदेश  ,दक्षिण में   आंध्रप्रदेश  , पूर्व में  ओड़िशा, दक्षिण में  महाराष्ट्र  एवं दक्षिण पश्चिम में  तेलंगाना  राज्य  स्थित है। 

 

* इन राज्यों  की सीमा  को स्पर्श  करने वाले छत्तीसगढ़  के जिलों  का विवरण  इस प्रकार है :-

* उत्तर -प्रदेश  (1 जिला )- बलरामपुर 

* मध्य प्रदेश  (7  जिले )  - बलरामपुर , सूरजपुर  ,कोरिया ,बिलासपुर , मुंगेली  , कवर्धा  , राजनांदगांव 

* झारखण्ड  (2  जिले ) -बलरामपुर  , जशपुर 

* आंध्रप्रदेश  (1  जिला )- सुकमा 

* तेलंगाना  ( 2  जिला ) -बीजापुर  , सुकमा 

* ओडिशा  (8  जिले ) राज्य  की सबसे लम्बी  सीमा  को छूने वाला राज्य --जशपुर , रायगढ़ , महासमुंद ,  धमतरी , गरियाबंद , बस्तर ,  सुकमा ,  कोंडागांव 

* महाराष्ट्र  (4  जिले ) -राजनांदगांव , नारायणपुर  ,बीजापुर , कांकेर 

 

 

 

*   3     राज्यों   के साथ सीमा -----बनाने वाले जिले  बलरामपुर  सुकमा है।  बलरामपुर  जिले  की सीमा  उत्तर प्रदेश  , मध्य प्रदेश  और  झारखण्ड है।  तथा सुकमा  जिले  की सीमा  आंध्रप्रदेश  , तेलंगाना  और ओडिशा को स्पर्श  करती है। 



*   2  राज्यों  के साथ  सीमा ------ बनाने  वाले  जिले  जशपुर  , राजनांदगांव  तथा बीजापुर  है।  जशपुर  जिले की सीमा झारखण्ड  एवं  ओडिशा को स्पर्श  करती है।   राजनांदगांव  जिले की सीमा  मध्यप्रदेश  और महाराष्ट्र   को स्पर्श करती है।  बीजापुर  जिले  की  सीमा  तेलंगाना  एवं  महाराष्ट्र  को स्पर्श  करती है।  

 

 

 

* छत्तीसगढ़ राज्य के 9 जिले  ऐसे है  जिनकी सीमा किसी भी राज्य  को स्पर्श नहीं करती।  ये  निम्न प्रकार है :- 

 

 सरगुजा  

         रायपुर 

              कोरबा 

                   जांजगीर -चांपा  

                        दुर्ग  

                        बेमेतरा

                     बालोद

               दंतेवाड़ा 

बलौदा बाजार 

 

 

 

*  छत्तीसगढ़ का  धमतरी  सबसे कम  अंतर्राज्यीय सीमा   वाला जिला है  तथा बलरामपुर  सबसे अधिक अंतर्राज्यीय सीमा वाला जिला है। 

 

* राज्य  का सबसे उत्तरी जिला - बलरामपुर , दक्षिणी  जिला-  सुकमा  , पूर्वी  जिला - जशपुर ,  पश्चिमी  जिला - बीजापुर  है।   

 

                                    

No comments:

Post a Comment

छत्तीसगढ़ में महाजनपद काल

  छत्तीसगढ़ में महाजनपद काल       * भारतीय इतिहास में छठी शताब्दी ईसा पूर्व का विशेष महत्व है ,  क्योकि  इसी समय से ही भारत का व्यवस्थित इतिह...