Sunday, 12 July 2020

छत्तीसगढ़ के प्रमुख वाद्ययंत्र Musical instrument of chhattisgarh , vaddhy yantra cg , cgpsc


छत्तीसगढ़ के प्रमुख वाद्ययंत्र 

 

 छत्तीसगढ़ी लोक संगीत से संबद्ध विशिष्ट वाद्य है।  इनके बिना लोक संगीत अपनी पूर्णता को प्राप्त नहीं कर  सकती। 

 

 

प्रमुख वाद्ययंत्र  निम्न प्रकार के है :-

 

 

१.    मोहरी  

            यह एक शहनाईनुमा ,धातु से बना वाद्ययंत्र  है।  यह महरा जाति के लोगो के द्वारा विवाह के अवसर पर बजाया  जाता है।  

       

२.      दफड़ा  

             यह लकड़ी के गोलाकार व्यास में चमड़े से बनाया जाता है। 

 

३.      मांदर 

             यह मंदरी नृत्य के अवसर पर प्रयोग किया जाने वाला ढोलनुमा  वाद्ययंत्र  है।  

           

४.    ताशा 

             यह छत्तीसगढ़ के मुस्लिम समाज में प्रचलित यह एक प्रसिद्ध वाद्ययंत्र  है।  

           

                

५.    खड़ताल 

        पण्डवानी लोकगीत में प्रयुक्त होने वाला प्रमुख वाद्ययंत्र है।  

 

६.     अलगोजा 

         यह बांस की बनी बाँसुरी होती है। 

          

७.    गुंदुम 

          यह गड़वा बाजा साज का प्रमुख यंत्र है।  इस यंत्र को सींग बाजा भी कहा जाता है।  

८.     धनकुल वाद्य 

         यह  एक पूजा वाद्ययंत्र है, जो जगार कथाओं के समय बजाया  जाता है।  इसके निर्माण में धनुष ,बांस ,सूप तथा हण्डी का प्रयोग होता है।  

                

   


No comments:

Post a Comment

छत्तीसगढ़ में महाजनपद काल

  छत्तीसगढ़ में महाजनपद काल       * भारतीय इतिहास में छठी शताब्दी ईसा पूर्व का विशेष महत्व है ,  क्योकि  इसी समय से ही भारत का व्यवस्थित इतिह...