Friday, 24 July 2020

छत्तीसगढ़ की महिलाओं के पारम्परिक आभूषण , Traditional jewellery of female , cg , cgpsc

         

छत्तीसगढ़ की महिलाओं के पारम्परिक आभूषण





*    छत्तीसगढ़ की लोगो की अपनी परम्परागत सौंदर्य पद्धति है।  यहां लोगो में  सौंदर्य बोध उच्च स्तर का है।  

*    यहाँ की स्त्रियां  विविध प्रकार के आभूषणो  का प्रयोग अपने सौंदर्य  वृद्धि  हेतु करती है।

  जिनका विवरण इस प्रकार है  :-

 

                    (1)  *** सिर  के आभूषण ***

        जंगली फूल ,पंख ,कौड़ियां ,ककई ,माँग -मोती ,पटिया ,बेनी ,कंघी  आदि प्रमुख है।  

 

 

 

 ****बेनी फूल ****

                

    *****मांग मोती ****

                                                                         

 ****जंगली फूल *****

          

 

       

 

 

                 (2 ) **** गले के आभूषण ***

        * इनमे सुता /सुतिया,  दूलरी ,तितली ,मोती हसंली  तथा मूंगों की मालाएं  आदि प्रमुख है।  

         * इसके अतिरिक्त ,पुतरी ,ढोलकी ,ताबीज ,मोहर,कलदार ,कण्ठा है। 

 

                                                                                                             ****रुपिया /सुता /सुतिया *****

          

    

****कण्ठा **** 

 

 

 

      

        

 

 

 

             (3 )  **** हाथ के आभूषण  ***

       * कांच ,लाख और चांदी  की चूड़ियाँ  आदि सुहाग की निशानी है। इनके अतिरिक्त हाथ में बहुँटा , बाजूबन्द ,नांगमोरी ,हरईया  भी पहने जाते है।  

        *  इसके अतिरिक्त कलाई  में ऐंठी ,कंकनी ,पटा ,बनुरिया भी पहनती है।  

 

 

 

******पटा ******

     

                                                                        

 

 

 

*****बहुंता ******

                                                            

       


 

             (4 )   ***   नाक  तथा कान  के आभूषण ***

       *  नाक में नथ ,बेसर ,लौंग ,फूली ,खेनवा  बुलाक  पहने जाते है ,तथा कान में  झुमका ,बाली  लरकी ,खूंटी ,लवंगफूल ,खोटिला  और लरकी ,तित्तरी  आदि पहने जाते है। 

      *  फूली ,जो लौंग के समान होती है ,नाक के एक ओर या दोनों ओर पहने जाते है।  नाक के नीचे  भाग  में नथनी  पहनी जाती है।  

 

 

******नथनी *****

                                                            

*****लौंग फूली *****

  

 

***** लवंग फूल *****

 

 

*****झूमका *****

 

 

                  (5 )    **** पैरो के आभूषण ***

         *  पैरी ,गठिया ,तोड़ा  और घुंघरू  पैर में पहनने के आभूषण है। पैरी में छोटे -छोटे  धातु  के कण भरे होते है ,जो चलने में मधुर आवाज करते है।  

         *  पैर की अंगुलियों में चुटकी ,बिछिया  और अंगूठे में चुटकी पहने जाते है।  

         * पैरो में कांसे  का काचूरा ,झांझर  तथा लच्छा  भी पहनने जाते है। 

 

 

 *****साटी*****

 

 

 

****लच्छा *****

 

 

*****बिछिया *****

 

 

 

             (6 )  **** अन्य  आभूषण ****

         * इनके  अतिरिक्त  यहां कमर में कौड़ियो  का कमरबंध ,करधनी ( चांदी ), जूड़े  में लाख का गजरा  आदि भी पहना जाता है।  गोदना भी यहां की स्त्रियों  का प्रिय  आभूषण है।  

       * टिकली  और बिंदिया  माथे के प्रमुख आभूषण है।    

           

 

 ****बिंदिया *****

   

 

*****करधनी *****                                                                    

 

  



No comments:

Post a Comment

छत्तीसगढ़ में महाजनपद काल

  छत्तीसगढ़ में महाजनपद काल       * भारतीय इतिहास में छठी शताब्दी ईसा पूर्व का विशेष महत्व है ,  क्योकि  इसी समय से ही भारत का व्यवस्थित इतिह...